श्री आर्य आज लालनाथ हिन्दू कॉलेज में श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ (रजि0) द्वारा आयोजित अभिनंदन समारोह में बतौर मुख्यअतिथि उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए-27.01.19

January 28, 2019

चण्डीगढ़, 27 जनवरीः हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा है कि ब्रिटिश शासन में अण्डेमान निकोबार द्विपसमूह को मुक्त कराने में तत्कालीन सेना की चमार रेजिमेंट का अहम योगदान था। श्री आर्य आज लालनाथ हिन्दू कॉलेज में श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ (रजि0) द्वारा आयोजित अभिनंदन समारोह में बतौर मुख्यअतिथि उपस्थित लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। 

उन्होंने कहा कि वर्ष 1943 में चमार रेजिमेंट बनाई गई थी। इस रेजिमेंट की देश व समाज की सुरक्षा में अहम भूमिका थी। रेजिमेंट ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह किया था। परिणामस्वरूप वर्ष 1946 में इस रेजिमेंट पर अंग्रेजों ने प्रतिबंध लगा दिया था। राज्यपाल ने कहा कि रेजिमेंट की बहाली के लिए समाज को सामूहिक प्रयास करने होंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जो संघर्ष करता है उसी को सब कुछ मिलता है। उन्होंने बताया कि तत्कालीन चमार रेजिमेंट के तीन सदस्य आज भी जीवित है। इनमें महेंद्रगढ़ का चुन्नीलाल, सोनीपत का धर्म सिंह व जोगी राम शामिल हैं। 

राज्यपाल ने कहा कि आजादी की लड़ाई में बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर ने एकता का सूत्र दिया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी डॉ. अम्बेडकर द्वारा दिखाए गए रास्ते पर चलते हुए अमीर व गरीब वर्ग के बीच की खाई को पाटने के लिए योजनाओं को क्रियान्वित कर रहे हैं। सबका साथ-सबका विकास आधार पर कार्य किया जा रहा है। गरीबों को धूएं से मुक्ति दिलाने के लिए प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत निःशुल्क गैस कनैक्शन उपलब्ध करवाए गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा स्वच्छ भारत- स्वस्थ भारत का नारा दिया गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी केन्द्र सरकार की योजनाओं पर युद्ध स्तर पर काम कर रहे हैं। खेलकूद के क्षेत्र में भी हरियाणा की बेटियों ने देश का नाम रोशन किया है। हरियाणा देश का नम्बर वन प्रांत माना जाने लगा है। 

नौजवानों से मेहनत करने का आवहान करते हुए राज्यपाल ने रामधारी दिनकर की पंक्तियों मानव जोर लगाता है-पत्थर पानी बन जाता है, का भी उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि नौजवानों में पत्थर को पानी बनाने की शक्ति है इसलिए कोई भी कार्य असंभव नही है। उन्होंने नौजवानों से दिनकर की उक्त पंक्तियों को अपने जीवन में उतारने की अपील की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर कोई नौजवान नशा करता है तो उसे तुरंत प्रभाव से इसे छोड़ देना चाहिए ऐसा करने से जहां आर्थिक क्षति का बचाव होगा वही स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा और बच्चों को अच्छे संस्कार भी मिलेंगे। उन्होंने युवाओं को देश की शक्ति बताया और कहा कि नौजवानों को देश के विकास में लगना होगा। 

राज्यपाल ने इस अवसर पर श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ (रजि0)को पुस्तकालय बनाने के लिए दस लाख रूपए की अनुदान राशि देने की भी घोषणा की। इसके अलावा उन्हों जिला के गांव बनियानी में रविदास समुदाय भवन के निर्माण के लिए भी अलग से दस लाख रूपए की अनुदान राशि देने की घोषणा की। महापीठ द्वारा राज्यपाल को पगड़ी पहनाकर उनका स्वागत किया। 

जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि भाजपा की सरकार ने अनुसूचित जाति वर्ग को सर्वाधिक मान- सम्मान दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार समरसता के भाव से कार्य करने में जुटी हुई है। सरकार ने भी अनुसूचित जाति के लोगों को पर्याप्त भागीदारी प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार में अनुसूचित जाति के तीन मंत्री है, इसलिए समाज के लोगों को भी सरकार की भावना को ध्यान में रखते हुए समर्थन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने जगह-जगह पर बाबा भीमराम अम्बेडकर के नाम से स्मारक बनवाए हैं। उन्हों समाज के लोगों से कहा कि डॉ. अम्बेडकर द्वारा कही गई शिक्षित बनों, संगठित रहो व संघर्ष रहो की बात पर अमल करना होगा। 

महापीठ के राष्ट्रीय महामंत्री एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के सदस्य सूरजभान कटारिया ने राज्यपाल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने सरकार व अन्य संविधानिक संस्थाओं ने समाज के लोगों को प्रतिभागी बनाया है। महापीठ की ओर से आए हुए मेहमानों को स्मृति चिह्नड्ढ भेंट किए गए। इस अवसर पर जयभगवान कटारिया, रणबीर सतगामा, जिला रैडक्रास सोसायटी के सचिव देवेंद्र चहल, अखिलेश, मंजीत दहिया, राजेश पहलवान, कविता राठी, अजय खूंडिया, प्रकाश, एमसी रामू, राजकुमार सुनारिया, जगत कूण्डु, राजबीर ढ़ाका, तारावती चाहर, सुमित कौशिक, कुलविन्द्र सिक्का, जोनी सरोहा, रवि नागपाल, कप्तान जसिया, सरोजनी चैधरी, मनोहर साकला, मनोहर चंदौलिया, रोहताश अहलावत के अलावा उपायुक्त डॉ. यश गर्ग, पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा, नगराधीश महेंद्रपाल, एम.डी. शुगर मिल प्रदीप अहलावत व एसडीएम रोहतक राकेश कुमार आदि उपस्थित थे। 

कैप्शनः- रोहतक में संत शिरोमणी श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ के पदाधिकारी के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य को सम्मानित करते हुए।