सम्मान समारोह का आयोजन विकास एवं पंचायत विभाग द्वारा 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना 06.07.2018

July 09, 2018

चण्डीगढ, 5 जुलाई।हरियाणा ऐसा राज्य है जहां कोई योजना बनती है तो वह पूर्णतया लागू भी होती है। इसीलिए यह राज्य विभिन्न क्षेत्रों में अन्य राज्यों से आगे है और श्रेष्ठ भारत बनाने की दिशा में अनुकरणीय कार्य कर रहा है। इस उपलब्धि के लिए सरकार से पहले पंचायतें और उनसे भी पहले ग्रामवासी बधाई के पात्र हैं। ये उद्गार हरियाणा के राज्यपाल प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने आज राजभवन में पांच व छह सितारा पंचायतों को सम्मानित करने के बाद अपने सम्बोधन में व्यक्त किए। 

सम्मान समारोह का आयोजन विकास एवं पंचायत विभाग द्वारा 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना के तहत किया था। इसमेें पलवल जिला की तीन पंचायतों-जैनपुर, जना चैली और नंगला भीखू को छह स्टार पंचायत से अलंकृत किया गया। इसी जिले की पंचायत भैडोली और घरोंट को 5 स्टार पंचायत के रूप में सम्मानित किया गया। इनके अलावा जिला रोहतक की काहनौर और जिला चरखी दादरी की पंचायत बाढड़ा को 5 स्टार से अलंकृत किया गया। पंचायतों को हर स्टार के लिए एक लाख रूपये की पुरस्कार राशि भी प्रदान की गई। बेटी बचाओ और स्वच्छता अभियान में स्टार पाने के लिए एक लाख 50 हजार रूपये की राशि प्रदान की गई।

राज्यपाल ने गर्व प्रकट किया कि वे उस राज्य के राज्यपाल हैं जहां नई-नई सार्थक पहल होती रहती हैं। उन्होंने आगे कहा कि आज हरियाणा खुले में शौचमुक्त व केसोसीन मुक्त हो चुका है। इसी प्रकार बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान में प्रदेश में जन्म के समय बच्चों में लिंगानुपात 930 हो चुका है जो कि 2011 में एक हजार लड़कों के पीछे 830 लड़कियां ही रह गया था। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि जल्द ही हरियाणा लिंगानुपात के अपने लक्ष्य 950 को प्राप्त कर लेगा। उन्होंने सम्मानित होने वाले पंचों और सरपंचों को बधाई देते हुए इन सब योजनाओं में उनके द्वारा निभाई गई भूमिका की प्रशंसा की। 

7-स्टार इन्द्रधनुष योजना को अन्य राज्यों के लिए भी अनुकरणीय बताते हुए राज्यपाल ने कहा कि देश की सब पंचायतंे इस दिशा में आगे बढती हैं तो एक भारत-श्रेष्ठ भारत तो होगा ही स्मार्ट भारत भी बन जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा ने पढी-लिखी पंचायतें होने की जो पहल की थी उसके सार्थक परिणामों के रूप में अब पंचायतें मात्र ढांचागत कार्य करने वाली संस्थाएं न रहकर लिंगानुपात, शिक्षा, स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण, सुशासन और विकास में सामाजिक भागीदारी को सुनिश्चित करने वाले प्रगतिशील संगठन बन गई हैं।

इससे पहले केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुज्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री का ग्राम विकास का सपना हरियाणा में साकार होता दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि विकास व कल्याण के लिए पंचायतों को सम्मानित करने से पूरे गांव का सम्मान बढेगा और अन्य गांव भी ऐसे अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित होंगे। 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना के लिए हरियाणा सरकार व पंचायतों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि जब तक गांवों का विकास नहीं होता भारत का विकास नहीं हो सकता। इसी बात को ध्यान में रखते हुए केन्द्र सरकार और हरियाणा सरकार ने भी अपने बजट में गांवों को प्राथमिकता दी है और आजादी के बाद पहली बार गांवों के लिए अधिकतम बजट रखा गया। 

हरियाणा के विकास व पंचायत मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने अपने सम्बोधन में कहा कि उनका लक्ष्य गांवों के गौरव को लौटाना है। इसके लिए एक पैकेजिंग आॅफ प्रैक्टिस लेकर आए हैं और 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना उसी का अंग है। उन्होंने कहा कि पंचायतों को राजभवन में इस प्रकार से सम्मानित करने का देश में यह पहला समारोह है और इससे वर्षाें तक नई पीढियां प्रेरित होंगी। गांव में कहा जाता है कि अपने मां-बाप की सेवा करो और पूरे गांव में सम्मान पाओ। इसी प्रकार 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना में सेवा अपने गांव की करो और सम्मान पूरे राज्य में पाओ। 

उन्होंने कहा कि गांव के गौरव को जगाने के लिए ही उस गांव के महानुभावों द्वारा प्राप्त उपलब्धियों को गांव के गौरव पट्ट पर लिखा जा रहा है। इनमें 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से लेकर अब तक देश पर मर-मिटने वाले वीरों के नाम प्रमुखता से लिखे गए हैं ताकि उनसे नई पीढियां देशभक्ति की प्रेरणा लें और उनके वंशज अपने पूर्वजों का नाम गौरव पट्ट पर देखकर गौरवान्वित हों। शिक्षित व प्रशिक्षित पंचायतों की धारणा भी इसी पैकेजिंग आॅफ प्रैक्टिस का भाग है। उन्होंने कहा कि पंचायतें आज पक्की गली, चैपाल आदि ढांचा बनाने वाली नहीं बल्कि सामाजिक सरोकारों से जुड़ी संस्थाएं बन गई हैं।

विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव सुधीर राजपाल ने सबका स्वागत करते हुए 7-स्टार इन्द्रधनुष योजना और विभाग की अन्य योजनाओं की जानकारी दी। विभाग में अधीक्षण अभियंता के0एस0 जाखड़ ने सबका धन्यवाद किया। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव डाॅ0 अमित कुमार अग्रवाल, विकास व पंचायत विभाग के अधिकारी आदि उपस्थित थे।