राष्ट्रीय कैडेट कोर एन.सी.सी. का आदर्श ‘‘एकता एवं अनुशासन‘‘ है- राज्यपाल 04.02.2020

February 04, 2020

चण्डीगढ़, 04 फरवरीः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने युवाओं का आहवान किया है कि वे राष्ट्रीय कैडेट कोर ;एन.सी.सी.द्ध व राष्ट्रीय सेवा योजना ;एन.एस.एसद्ध का प्रशिक्षण अवश्य प्राप्त करें ताकि वे अनुशासित युवा बनकर कुशल नेतृत्व प्रदान करने मे सक्षम हो। श्री आर्य मंगलवार को एन.सी.सी. व एन.एस.एस के कैडेट्स व स्वयंसेवकों के सम्मान मंे आयोजित समारोह में बोल रहे थे। इस समारोह में एन.सी.सी. के उन सभी 32ं कैडेट्स व एन.एस.एस. के नौ स्वयंसेवकों को सम्मानित किया गया, जिन्होने 2020 में गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में आयोजित परेड व प्रधानमंत्री रैली में भाग लिया था। इन में दस गल्र्स कैडेट्स भी शामिल है। हरियाणा की एन.सी.सी. की इस टुकड़ी ने इस बार भी चैथी बार परेड में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इसी तरह से एन.एस.एस के नौ स्वयंसेवकों को सम्मानित किया गया। जिनमें चार गल्र्स स्वयंसेवक (वालन्टियर्स) शामिल है। इन्होने भी गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लिया। उन्होनें गणतंत्र दिवस परेड में एनएसएस की टुकडी का नेतृत्व करने वाले हिसार (हरियाणा) के स्वयंसेवक चेतन गुप्ता को विशेष बधाई दी। उन्होनें कैडेट्स व स्वयंसेवियों को स्मृति चिन्ह के साथ-साथ 21-21 हजार रूपए की राशि का चैक प्रदान किया। उन्होने सभी कैडेट्स व स्वयंसेवकों को 5100-5100 रूपए की अतिरिक्त राशि इनाम में देने की घोषणा की।

राज्यपाल श्री आर्य ने कहा कि राष्ट्रीय कैडेट कोर एन.सी.सी. का आदर्श ‘‘एकता एवं अनुशासन‘‘ है, जबकि राष्ट्रीय सेवा योजना का आदर्श ‘‘मैं नही बल्कि आप‘‘ है। ये दोनों संस्थाएं अपने आदर्शों पर कार्य कर युवाओं में राष्ट्र व समाज सेवा की भावना भरती है। इन संस्थाओं के  कैडेट्स व स्वयंसेवियों मानवता की सेवा करने के लिए रक्तदान, नेत्रदान का संकल्प लेते है। इसके साथ-साथ ये कैडैट्स दहेज उन्मूलन अभियान, एड्स जागरूकता अभियान तथा स्वच्छता अभियान जैसी गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर भाग लेते है।

उन्होनंे कहा कि आज देश महात्मा गांधी जी की 151वीं जंयती मना रहा है। ऐसे अवसर पर एन.सी.सी. के कैडेट ने गणतंत्र दिवस परेड में प्रथम स्थान प्राप्त कर प्रदेश को गौरवान्वित किया है। सभी कैडेट्स व स्वयंसेवी बधाई के पात्र है। 

श्री आर्य ने कहा कि एन.सी.सी. व एन.एस.एस में लड़कियां भी लड़को की तरह प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है और ये भी पूरी तरह प्रशिक्षित होकर देश व समाज सेवा के लिए तैयार है। उन्होनें युवाओं से अपील की कि वे अपनी युवा शक्ति को चैनेलाइज कर सामाजिक कुरीतियों को दूर करते हुए समाज व राष्ट्र की प्रगति में अपना महत्वपूर्ण योगदान देें। उन्होनें आश्वस्त किया कि राज्य सरकार भी राष्ट्रीय कैडेट कोर व राष्ट्रीय सेवा योजना की गतिविधियांे को लोकप्रिय बनाने और उन्हंे प्रोत्साहन देने का भरसक प्रयत्न करेगी। 

श्री आर्य अपने छात्र जीवन के अनुभव सांझा करते हुए कहा कि वे भी छात्र जीवन में स्काउट् व एनसीसी के कैडेट रहे हैं। इसी की वजह से उनके जीवन में जनसेवा की भावना उत्पन्न हुई और ताउम्र अनुशासित जीवन व्यतीत करते हुए जनसेवा के कार्यों में बढ़चढ़ कर भाग लिया। युवाओं को भी चाहिए कि वे अनुशासित बनकर देश के जिम्मेवार नागरिक बने।

इस अवसर पर शिक्षा मंत्री श्री कंवरपाल गुर्जर ने सभी कैडेट्स व स्वयंसेवकों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के युवा कैडेट्स व स्वयंसेवी  भविष्य में और ज्यादा संख्या में गणतंत्र दिवस समारोह में राज्य का प्रतिनिधित्व करेगें, जिससे प्रदेश का नाम रोशन होगा। उन्होनंे कहा कि     एन.सी.सी व एन.एस.एस को युवाओं में और अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए अधिक सुविधाएं उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जाएगा। उन्होनें कहा कि प्रदेश के युवाओं में राष्ट्रीय सेवा योजना को लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा पांच राष्ट्रीय एकीकृत शिविरों का आयोजन किया जाएगा, जिसका प्रारूप भारत सरकार के युवा मामले एवं खेल मंत्रालय की गाईड लाईन के अनुसार होगा। इसी प्रकार से राज्य सरकार के खर्च पर ही स्वयंसेवकों के लिए दस एडवैंचर कैंप आयोजित होगंे। उन्होनें यह भी कहा कि राज्य स्तरीय एनएसएस कैंप की तर्ज पर प्रदेश में विश्वविद्यालय और महाविद्यालय स्तर के स्वयंसेवकों के लिए विश्वविद्यालय स्तर पर तथा दस जमा दो स्तर के एन एस एस स्वयंसेवकों के लिए जिला स्तरीय एन एस एस शिविरों का भी आयोजन किया जाएगा। इन सब शिविरों के खर्च का वहन राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा।

समारोह में राष्ट्रीय कैडेट कोर ;एन.सी.सी.द्ध के ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर, श्री विजय मेहता ने एन.सी.सी. की गतिविविधयों का ब्यौरा देता हुए कहा कि एन.सी.सी. विश्व का सबसे बड़ा युवा संगठन है। यह देश में 17 निदेशालयों के तहत कार्य कर 15 लाख से भी अधिक युवाओं को प्रशिक्षण दे रहा है। उन्होने कहा कि देश की सेनाओं को बड़ी संख्या में कमीशन्ड अधिकारी दिए है। इसके साथ-साथ एन.सी.सी. व एन.एस.एस. समाज सवा के लिए भी युवाओं को तैयार करती है। 

समारोह में एन.एस.एस के क्षेत्रिय निदेशक डा कमलकार ने  एन.एस.एस. की गतिविविधयों का ब्यौरा दिया उन्होनें स्वयंसेवकों ने सरकारी व गैर सरकारी क्षेत्रों में कुशल नेतृत्व प्रदान किया है। इस समय एन.एस.एस. से 40 लाख युवा जुड़े है। उन्होने आज सम्मानित हुए सभी युवाओं को बधाई दी। 

इस अवसर पर राज्यपाल की सचिव डा0 जी0 अनुपमा व उच्चतर शिक्षा विभाग के निदेशक अजीत बालाजी जोशी सहित एनसीसी व एनएसएस विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

कैप्शन 1ः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य एन.सी.सी व एन.एस.एस. सम्मान समारोह में कैडेट्स को संबोधित करते हुए।

 

कैप्शन 2ः-  हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य एन.सी.सी कैडेट्स के साथ सामुहिक चित्र करवाते हुए।

 

कैप्शन 3ः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य एन.एस.एस. स्वयंसेवकों के साथ सामुहिक चित्र करवाते हुए।