राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने समाज के प्रबुद्ध लोगों का आहवान किया कि वे समाज के गरीब व पिछड़े वर्ग के लोगों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जागरूक करें-26.12.18

December 27, 2018

चण्डीगढ़ 26, दिसंबर-  हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने समाज के प्रबुद्ध लोगों का आहवान किया कि वे समाज के गरीब व पिछड़े वर्ग के लोगों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जागरूक करें, ताकि जरूरतमंद लोगों तक इन योजनाओं का लाभ पहुचें। श्री आर्य आज राजभवन में श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ के राष्ट्रीय महामंत्री व सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय (भारत सरकार) के सदस्य श्री सुरजभान कटारिया के नेतृत्व में आए प्रतिनिधिमंड़ल से बातचीत कर रहे थे।

उन्होने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा गरीब वर्ग के कल्याण के लिए बहुत योजनाएं चलाई जा रही है जागरूकता की कमी के चलते जरूरतमंद व्यक्ति कई बार योजनाओं से वंचित रह जाते है ऐसे में सरकार के सभी विभागों की भी जिम्मेवारी है कि वे अपने विभाग की योजनाओं का भरपूर प्रचार-प्रसार करंे। उन्होने समाज के विभिन्न वर्गों के शिक्षित व समाज सेवा के कार्य में लगे लोग भी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए कार्य करे, जिससे प्रत्येक गरीब वर्ग के जरूरतमंद व्यक्ति को सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ होगा। 

श्री आर्य ने गरीब वर्ग के लिए शिक्षा के महत्व पर बल देते हुए कहा कि शिक्षा ही इस समाज के लिए रामबाण सिद्ध हो सकती है। समाज शिक्षित होगा तो समाज हर प्रकार से आगे बढ़ पाएगा, क्योंकि शिक्षित व्यक्ति अपने अधिकारों के प्रति स्वयं ही जागरूक हो जाता है। उन्होने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार की अनेक योजनाएं है जो गरीब वर्ग के लोगों के लिए है। इन योजनाएं में मुख्यमंत्री सामाजिक समरसता अन्तर्जातीय विवाह शगुन योजना, डा0 अम्बेडकर मेधावी छात्र योजना, डा0 बी.आर. अम्बेडकर आवास नवनीकरण योजना, पोस्ट मैट्रिक छात्रवृति आदि योजनाएं शामिल है। 

उन्होने कहा कि गरीब वर्ग के लोगों को लड़कियों की शिक्षा पर और अधिक काम करने की आवश्यकता है, क्योंकि एक लड़की के शिक्षित होने से तीन परिवार शिक्षित होते है। शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लोग लड़कियों को शिक्षित करने से ही आगे बढ़ती है। राज्य सरकार ने भी लड़कियों के शिक्षा के लिए कई कदम उठाए जो सराहनीय है। अनुसूचित जाति की छात्राओं हेतू को सरकारी संस्थाओं को छात्रावास निर्माण के लिए 100 प्रतिशत राशि सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। इसके साथ-साथ विभाग द्वारा अनुसूचित जाति की लड़कियों को विभिन्न कार्यों के लिए निशुल्क प्रशिक्षण भी उपलब्ध करवाया जाता है। इतना ही नही लडकियों की सुरक्षा के लिए भी सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए है।

उन्होने कहा कि आज ई-सेवाओं व ई-गवर्नैंस का युग है इसलिए प्रदेश में सरकार द्वारा 400 से भी अधिक सेवाएं आॅनलाइन की गई है। युवाअेां को चाहिए कि वे सभी प्रकार की सेवाओं के लिए अंत्योदय सरल केन्द्र और अंत्योदय भवनों से सेवा का लाभ उठाए। प्रदेश में तीन दर्जन से भी अधिक विभागों की सेवाओं का लाभ उठानें के लिए न तो सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने पडे़गे और न ही शहरों तक जाना पड़ेगा। इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के अवसर पर प्रकाशित की गई ‘‘सम्यक भारत‘‘ नामक पुस्तिका भी भेंट की। बुधवार को ही अनुसूचित जाति व जन जाति संघ के प्रतिनिधिमंड़ल ने भी राज्यपाल श्री आर्य से मुलाकात की और संघ की मांगों से अवगत कराया।

कैप्शनः- श्री गुरू रविदास विश्व महापीठ के राष्ट्रीय महामंत्री व सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय (भारत सरकार) के सदस्य श्री सुरजभान कटारिया व प्रतिनिधिमंड़ल हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य से मुलाकात कर ‘‘सम्यक भारत‘‘ नामक पुस्तिका भेंट करते हुए।