राजभवन में आयोजित एन.सी.सी कैडेट्स व एन.एस.एस स्वयंसेवकों  का राज्य स्तरीय सम्मान समारोह 

February 02, 2021

चण्डीगढ़, 01 फरवरी-  हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा है कि देश को सुदृढ़ व सुरक्षित बनाने के लिए हर युवा को राष्ट्रीय कैडेट कोर के कैडेट के रूप में तथा राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक के रूप प्रशिक्षण लेकर देश व समाज की सेवा के लिए आगे आना चाहिए।

राज्यपाल श्री आर्य सोमवार को यहां हरियाणा राजभवन में वर्ष-2021 की गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले राज्य के राष्ट्रीय कैडेट कोर के कैडेट्स व राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों के सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में अपना संबोधन दे रहे थे।

उन्होंने इस वर्ष 2021 में गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में आयोजित परेड तथा प्रधानमंत्री रैली में हरियाणा का प्रतिनिधित्व करने वाले राज्य के सभी कैडेट्स व स्वयंसेवकों तथा उनके अभिभावकों को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्हें गर्व है कि कोविड-19 के प्रभाव के कारण भी दिल्ली में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में इस बार हरियाणा के राष्ट्रीय कैडेट कोर के 07 कैडेटों तथा  राष्ट्रीय सेवा योजना के 08 स्वयंसेवकों ने  भाग लिया है।  

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कैडेट कोर का मुख्य ध्येय युवाओं को ’’एकता एवं अनुशासन’’ से जोड़ना तथा राष्ट्रीय सेवा योजना का उद्देश्य Not Me But You अर्थात ‘‘मैं नहीं बल्की आप हैं’’। उन्होंने स्मरण करवाया कि वे छात्र जीवन में राष्ट्रीय कैडेट कोर से जुड़े रहे। उसी समय से ही मन में समाज सेवा की भावना पैदा हुई। 

राज्यपाल ने कहा कि आज पूरे देश में लगभग 15 लाख राष्ट्रीय कैडेट कोर के कैडेट्स और 40 लाख राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक हैं और भविष्य में यही अनुशासित युवा देश के कर्णधार बनेंगे तथा कुशल नेतृत्व प्रदान करेंगें। 

श्री आर्य ने कहा कि राष्ट्रीय कैडेट कोर ने अनेक क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसे देश की तीसरी रक्षा पंक्ति भी कहा जाता है। राष्ट्रीय कैडेट कोर व राष्ट्रीय सेवा योजना दोनों संस्थाएं युद्ध जैसी परिस्थितियों और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान जनसेवा के कार्य करती हैं। 

राज्यपाल ने आशा व्यक्त की कि राष्ट्रीय कैडेट कोर के कैडेट्स व राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक भविष्य में भी सामाजिक कुरीतियों को दूर कर समाज के उत्थान में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते रहेगें और राज्य के सांस्कृतिक व सामाजिक दूत के रुप में मानवता की सेवा करते रहेगें। राज्य सरकार भी राष्ट्रीय कैडेट कोर व राष्ट्रीय सेवा योजना की गतिविधियों को लोकप्रिय बनाने और उन्हें प्रोत्साहन देने का भरसक प्रयत्न करती रहेगी।

राज्यपाल श्री सत्यदेव नारयाण आर्य ने गणतंत्र दिवस परेड तथा प्रधानमंत्री रैली में भाग लेने वाले सभी राष्ट्रीय कैडेट कोर के कैडेट्स और राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों को सम्मानित किया। सम्मान स्वरूप 21000 रूपए की नकद राशि और प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। इसके अलावा राज्यपाल ने सभी विजेता प्रतिभागियों के लिए 5100-5100 रूपये अतिरिक्त रूप से ईनाम देने की घोषणा भी की। 

इस अवसर पर शिक्षामंत्री श्री कंवरपाल ने अपने संबोधन में कहा कि वर्ष-2021 गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले हरियाणा के राष्ट्रीय कैडेट कोर व राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों ने हरियाणा का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि छात्र जीवन में वे भी राष्ट्रीय कैडेट कोर व राष्ट्रीय सेवा योजना से जुड़ रहे हैं और आज उन्हें गर्व है कि शिक्षामंत्री के रूप में वे गणतंत्र परेड में भाग लेने इन दोनों संस्थाओं के युवाओं को सम्मानित करने के समारोह में उपस्थित हैं। 

उच्चतर शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अंकुर गुप्ता ने कहा कि आज विश्व की सबसे अधिक युवा जनसंख्या भारतवर्ष में है। युवाओं को देश की अर्थव्यवस्था में बदलाव लाने के लिए प्रोत्साहित होना होगा। आज युवाओं में सामाजिक जागरूकता देखने को मिल रही है। 

उच्चतर शिक्षा महानिदेशक श्री अजीत बालाजी जोशी ने कहा कि इस बार राष्ट्रीय सेवा योजना के दो पुरस्कारों में एक हरियाणा को प्राप्त हुआ है। उन्होंने अवगत कराया कि राष्ट्रीय सेवा योजना हरियाणा ने स्वयंसेवकों ने देश में अपनी तरह एक नई पहल करते हुए अनाथालय और वृद्धाश्रमों के एक-एक बच्चे और एक-एक वृद्ध से जुड़ने की योजना शुरू की है। 

राष्ट्रीय कैडेट कोर हरियाणा के अतिरिक्त महानिदेशक मेजर जनरल बेजी मैथ्यू ने अपने संबोधन में कहा कि राजभवन में आयोजित सम्मान समारोह राष्ट्रीय कैडेट कोर के नवोदित कैडेट्स के लिए यादगार रहेगा। उन्होंने कहा कि अनुशासित जीवन से ही हम एकजूट भारत की कल्पना कर सकते है। इस वर्ष कोविड-19 के प्रोटोकाॅल के तहत पूरे देश के राष्ट्रीय कैडेट कोर निदेशालयों से 34 कैडेट्स भेजे गए थे जिनमें सात कैडेट्स हरियाणा के थे। 

श्री मैथ्यू ने कहा कि इस वर्ष बैस्ट कैडेट कम्पीटिशन में हरियाणा एयर एन.सी.सी स्कवाड्रन, हिसार के कैडेट मयंक शर्मा को तीसरा स्थान मिला। उन्होंने जानकारी दी कि ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत‘ के तहत कोविड-19 के कारण ओनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में पहली राष्ट्रीय कैडेट कोर अकादमी घरौंडा, करनाल में स्थापित की जा रही है, जो शीघ्र ही तैयार होगी।

समारोह में राष्ट्रीय सेवा योजना के राज्य संयोजक अधिकारी श्री भगत सिंह ने भी एन.एस.एस के कार्यक्रमों की जानकारी दी। इस अवसर पर महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक के एन.एस.एस कार्यक्रम के संयोजक डा. रणवीर गुलिया तथा कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरूक्षेत्र की श्रीमती जसमेर को पुरस्कृत किया गया।

गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने वाले जिन कैडेट्स को सम्मानित किया गया उनमें सेकेंड हरियाणा गल्र्स एन.सी.सी बटालियन, अम्बाला कैन्ट की नेहा, लवप्रित सिंह व कर्णदीप सिंह, 10 हरियाणा एन.सी.सी बटालियन, कुरूक्षेत्र के मनजीत, 11 हरियाणा एन.सी.सी बटालियन, भिवानी के नितिन यादव, हरियाणा प्रथम हरियाणा एयर एन.सी.सी स्कवाड्रन, हिसार के कैडेट मयंक शर्मा तथा नेवल एन.एन.सी बटालियन के तुषार दलाल शामिल है। परेड कन्टिजेन्टस कमांडर लैफ्टनेट कर्नल आर.एस पठानिया को भी सम्मानित किया गया। 

इसी प्रकार राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक मोहिम शर्मा, हेमंत, अंकित यादव, नरेश कुमार, कुमारी आरजु, कुमारी आशु, कुमारी ज्योति व सिमरन कौर शामिल है। राष्ट्रीय कैडेट कोर, निदेशालय हरियाणा के उपनिदेशक श्री अजीत सिंह ने सभी का धन्यवाद किया। 

समारोह में राज्यपाल की सचिव डा. जी. अनुपमा, एन.सी.सी निदेशालय के सैन्य अधिकारी व उच्चतर शिक्षा विभाग के अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी व गणतंत्र दिवस समारोह में भाग लेने वाले कैडेट्स व स्वयंसेवकों के अभिभावक भी उपस्थित थे।

कैप्शन 1- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य सोमवार को राजभवन में आयोजित एन.सी.सी कैडेट्स व एन.एस.एस स्वयंसेवकों के राज्य स्तरीय सम्मान समारोह में एन.सी.सी कैडेट्स को सम्मानित करते हुए।

कैप्शन 2- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य सोमवार को राजभवन में आयोजित एन.सी.सी कैडेट्स व एन.एस.एस स्वयंसेवकों के राज्य स्तरीय सम्मान समारोह में एन.एस.एस स्वयंसेवकों को सम्मानित करते हुए।