हरियाणा के राज्यपाल प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने केरल में बाढ पीड़ितों को राहत व पुनर्वास कार्याें के लिए राहत सामग्री के ट्रकों को राजभवन से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया-21.08.2018

August 21, 2018

चण्डीगढ़, 21 अगस्त।  हरियाणा के राज्यपाल प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने केरल में बाढ पीड़ितों को राहत व पुनर्वास कार्याें के लिए राहत सामग्री के ट्रकों को राजभवन से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। एक करोड़ 4 लाख रूपये मूल्य की यह राहत सामग्री भारतीय रैडक्रास समिति, हरियाणा राज्य शाखा द्वारा भेजी गई है। यह राहत सामग्री भारतीय रैड क्रास समिति, हरियाणा राज्य शाखा के उपाध्यक्ष डाॅ0 मुकेश अग्रवाल, महासचिव डी0आर0 शर्मा, संयुक्त सचिव श्रीमती सविता अग्रवाल, सचिव यमुनानगर एवं कुरूक्षेत्र रैड क्रास रणदीप सिंह व कुलदीप मलिक, अन्य अधिकारी व कर्मचारी राजभवन लेकर आए और राज्यपाल ने इसे रवाना किया। इसके साथ एक एम्बुलैंस, रैड क्रास के दो अधिकारी और पांच स्वयंसेवक भी केरल में बाढ पीड़ितों की मदद के लिए गए हैं।

राज्यपाल ने राहत सामग्री एकत्रित करने के लिए रैडक्रास समिति, जिला प्रशासन कुरूक्षेत्र, पंचकुला, यमुनानगर, फरीदाबाद और पानीपत की सराहना की। उन्होंने कहा कि हरियाणा रैडक्रास समिति और हरियाणा के लोग किसी भी क्षेत्र में किसी भी आपदा के समय मदद के लिए तत्पर रहते हैं।

राज्यपाल ने केरल में बाढ से जान-माल की हानि पर गहरा दुख प्रकट किया है और कामना की है कि जो लोग इस आपदा से पीड़ित हुए हैं वे शीघ्र ही अपनों घरों को लौटकर सामान्य जीवन जीएं। राज्यपाल ने कहा कि अभी इस आपदा में बेघर हो चुके लोगों के पुनर्वास व नष्ट हो चुके बुनियादी ढांचे जैसे कि सड़कें, मकान आदि के पुनः निर्माण लिए भी बहुत कुछ करना बाकी है। उन्होंने देशवासियों से अपील की है कि संकट की इस घड़ी में वे पीड़ितों को हरसंभव सहायता प्रदान करने के लिए आगे आएं। उन्होंने इस आपदा के समय लाखों लोगों की जान बचाने वाले सैनिकों पर गर्व प्रकट किया और कहा कि उन्होंने सब तरह का जाखिम उठाते हुए मानवता की महान सेवा की है। 

भारतीय रैडक्रास समिति, हरियाणा राज्य शाखा, चण्डीगढ़ द्वारा एक करोड़ 4 लाख रूपये मूल्य की बैडशीट्स, धोतियां, साड़ियां, कम्बल, तिरपाल, पेंट-कमीजें, कुर्ता पाजामा, लेडीज सूट, तौलिये, बनियानें, हवाई चप्पलें, मच्छरदानियां, किचन सैट्स, दूध, चीनी, वाशिंग पाउडर, टूथपेस्ट, टूथब्रुश, मोमबत्तियां, बालटी आदि केरल में आई विनाशकारी बाढ़ से पीड़ित लोगों में वितरित करने के लिए भेजी गई हंै।