हरियाणा दिवस समारोह-01.11.2018

November 04, 2018

चण्डीगढ़ 1 नवम्बर -: हरियाणा राजभवन में आज राज्य स्तरीय हरियाणा दिवस समारोह बड़े ही हर्षोल्लास और उत्साहपूर्वक मनाया गया। समारोह का शुभारम्भ हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य और मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने विधिवत् दीप प्रज्ज्वलित करके किया। इसके बाद गांधी जी के पसंदीदा वैष्णवजन गीत से सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत की गई। पंजाब के राज्यपाल श्री वी.पी. ंिसंह बदनौर भी समारोह में विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। कार्यक्रम में प्रथम लेडी गर्वनर श्रीमति सरस्वति देवी भी उपस्थित रही।

हरियाणा के राज्यपाल ने प्रदेश के लोगों को इस शुभ अवसर पर बधाई देते हुए कहा कि हरियाणा प्रदेश ने अपने गठन के बाद प्रत्येक क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की है। 1966 में जब हरियाणा बना तो यह मरूस्थलीय प्रदेश था जिसकी गिनती अब देश के विकसित राज्यों में होती है। मुख्यमंत्री हरियाणा प्रदेश वासियों को हरियाणा दिवस की बधाई दी और प्रदेश के सभी नागरिको से अपील की कि वें आगे हरियाणा को नवीन तकनीक व प्रौद्योगिकी से लैस दुनिया का सर्वाधिक विकसित क्षेत्र बनाने का संकल्प लें। 

इस अवसर पर बहुरंगी सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये, जिनकी शुरूआत हरियाणवी नृत्य धमाल से की गई। सांस्कृतिक कार्यक्रमों की कडी मंे ही बिहार और छत्तीसगढ के लोकनृत्य ‘‘छाव‘‘ की प्रस्तुति बेहद मनमोहक रही। उत्तर प्रदेश के लोकनृत्य मयुर, बरसाना की होली, पंजाब के नृत्य लुड्डी राजस्थानी और हरियाणवी नृत्य ‘लूर‘ की प्रस्तुतियों ने दर्शकों को बार-बार तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया है। इसके साथ-साथ राजस्थान के भवई नृत्य की प्रस्तुति भी बेहद मनमोहक रही। इनके अलावा हरियाणा वंदना, हरियाणा का विकास के गीत और संकल्प गीत विशेष आकर्षन का केन्द्र रहे जिनमें हरियाणा की विकास यात्रा प्रस्तुत की गई।

राज्यपाल ने समारोह में भाग लेने वाले कलाकारों को पांच लाख रुपये पुरस्कार देने की घोषणा की। उन्हांेने कला एवं संस्कृति विभाग की और से उन कलाकारों को सम्मानित किया जिन्होंने पिछले दिनों सांझी प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त किये थे। प्रथम पुरस्कार के रूप में 11000 रूपये, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले कलाकार को 7100 रूपये और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले को 5100 रूपये नकद प्रदान किये गए। इनके अलावा चैथा और पांचवा स्थान प्राप्त करने वाले कलाकारों को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 2100-2100 रूपये ईनाम दिया गया। सांझी प्रतियोगिता में कुरूक्षेत्र में रमनदीप प्रथम, पूनम द्वितीय, निर्मला देवी तीसरे, तनु कृतिका चैथे और स्वाति पांचवें स्थान पर रही थी। इसी प्रकार करनाल में संध्या पहले, पूजा दूसरे, सिमरण तीसरे, किरण चैथे और सत्या शर्मा पांचवें स्थान पर रही थी। फरीदाबाद में सूरज देवी पहले, दीपिका दूसरे, कुसुम लता तीसरे, रेखा भटनागर चैथे और सरिता अधाना पांचवें स्थान पर रही थी। पलवल में उर्वशी पहले, राधा दूसरे, राजेश देवी डागर तीसरे, ज्योति आर्य चैथे और सिमरण शर्मा पांचवें स्थान पर रही थी।

इस अवसर पर हरियाणा के परिवन मंत्री कृष्णलाल पंवार, सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्ण देव काम्बोज, सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री श्री बनवारी लाल, श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री नायब ंिसंह, पंचकूला के विधायक ज्ञानचन्द गुप्ता, हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन श्री जगदीश चैपडा, हरियाणा के मुख्य सचिव डी0एस0 ढेसी व विभिन्न विभागो के अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रधान सचिव व अन्य अधिकारी व गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

 "'