भारत संख्या से नहीं अपने विचार से जाना जाता है-राज्यपाल 13.05.2018

May 14, 2018

चण्डीगढ, 13 मई । भारत संख्या से नहीं अपने विचार से जाना जाता है। पूरा संसार भारत को संपूर्ण मानवता के लिए इसकी सोच के लिए जानता है। हजारों सालों की परतंत्रता भी हमारी इस सोच को मिटा नहीं सकी और इसी कारण भारत को कभी भी तलवार के बल पर जीता नहीं जा सका। ये उद्गार हरियाणा के राज्यपाल प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने आज भारत विकास परिषद् द्वारा विद्याार्थियों को पाठ्य-सामग्री वितरण के लिए आयोजित समारोह में बोलते हुए व्यक्त किए। समारोह का आयोजन स्थानीय टैगोर थियेटर में किया गया। राज्यपाल ने दीप जलाकर समारोह का शुभारम्भ किया। 

राज्यपाल ने आगे कहा कि आजादी के बाद भारत के विचार और जीवन-मूल्यों को पुनः स्थापित करने के लिए भारतीय समाज ने अनेक प्रयास किए। भारत विकास परिषद् ऐसा ही एक प्रयास है। यह संस्था अपने सम्पर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा और समर्पण के सूत्रों के माध्यम से भारतीय मूल्यों को आगे बढाने का काम कर रही है। 

प्रो0 सोलंकी ने आगे कहा कि राष्ट्र के प्रति प्रेम का भाव जगाने के लिए राष्ट्र को जानना जरूरी है। इसलिए विद्यार्थियों को भारतवर्ष के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करनी चाहिए। इससे नागरिकों में राष्ट्रीयता का भाव जगेगा जिससे सब विसंगितियां समाप्त हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीयता का भाव राजनीति को भी ठीक कर देगा और फिर राजनीति समाज को तोड़ेगी नहीं, बल्कि जोड़ेगी। 

भारत विकास परिषद् के साक्षरता प्रकल्प की सराहना करते हुए राज्यपाल ने कहा कि परिषद् मानव कल्याण की राह पर चलते हुए होनहार विद्यार्थियों की मदद ही नहीं बल्कि गरीब मरीजों और अन्य जरूरतमंदों की सेवा कर रही है। उन्होंने कहा कि 1987 में में शुरू साक्षरता प्रकल्प के तहत 20 हजार से अधिक विद्यार्थियों की मदद नए भारत के निर्माण में कारगर साबित होगी। राज्यपाल ने भारत विकास परिषद् की ओर से विद्यार्थियों में पाठ्य-सामगी का वितरण भी किया।

इससे पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के महानगर संघचालक त्रिलाकीनाथ गोयल और भारत विकास परिषद् के अतिरिक्त महासचिव विनीत गर्ग ने भी विचार रखे। परिषद् के राज्य प्रधान एच0आर0 नारंग ने सबका स्वागत किया और साक्षरता प्रकल्प के निदेशक के0एल0 चैहान ने इस प्रकल्प की विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर भारत विकास परिषद् ट्रस्ट के चेयरमेन डाॅ0 के0एल0 पासी, चण्डीगढ की पूर्व मेयर आशा जसवाल सहित अनेक समाजसेवक व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

                                                                    13052018