बच्चों की दिल लगाकर देखरेख करे व उनके स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें-राज्यपाल 25.11.2018

November 26, 2018

चंडीगढ, 25 नंवबर 2018- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने बच्चों को देश की नींव व कल का कर्णधार बताते हुए अभिभावकों का आह्वड्ढान किया है कि वे बच्चों की दिल लगाकर देखरेख करे व उनके स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। श्री आर्य आज हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय बाल महोत्सव एवं पुरस्कार वितरण समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। 

श्री आर्य ने कहा कि जो व्यक्ति स्वस्थ होता है उसकी कार्य क्षमता भी अधिक होती है और वह सभी कामों को अच्छे से कर सकता है। उन्होंने कहा कि अच्छी सेहत ही सबसे बड़ी पुंजी होती है। राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने बच्चों के विकास के लिए अनेक योजनाओं को क्रियान्वित किया और श्री नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने बच्चों के कल्याण की योजनाओं को फिर से पुनर्जीवित किया है।

श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि बच्चों के कल्याण के लिए सरकार द्वारा मिशन इन्द्रधनुष, राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम, स्वस्थ भारत स्वच्छ भारत, पंडित दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल मिशन, बेटी बचाओ-बेटी पढाओं व सबका साथ-सबका विकास आदि योजनाओं व कार्यक्रमों को क्रियान्वित किया गया। उन्होंने लोगों का आह्वड्ढान किया कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लागू की गई योजनाओं को आगे बढ़ाने में अपना सहयोग दें। राज्यपाल ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल भी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लागू की गई योजनाओं को प्रदेश में क्रियान्वित कर लोगों को लाभ पहुंचाने का काम कर रहे है। उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का नम्बर वन राज्य बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश में अन व पशुधन की कोई कमी नहीं है। हरियाणा में कोई भी ऐसा घर नहीं है जहां शौचालय न हो। 

लोगों से शिष्टाचार व अनुशासन में रहकर कार्य करने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि अनुशासन ही देश को महान बनाता है। उन्होंने कहा कि असंख्य लोगों की कुर्बानियों की वजह से ही देश को आजादी मिली है और आज हम सब पूर्ण आजादी के साथ अपना जीवन व्यापन कर रहे है। श्री आर्य ने कहा कि बिना ज्ञान केे कुछ भी प्राप्त नहीं किया जा सकता और ज्ञान के लिए शिक्षा होना जरूरी है। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे अपने शिक्षिकों की शरण में रहकर ज्ञान की प्राप्ति करें। राज्यपाल ने लोगों से गरीबों का हमदर्द बनने की बात कहते हुए कहा कि बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर ने शिक्षित बनो, संगठित रहो व संघर्ष करो का नारा दिया था। पंडित दीन दयाल शर्मा ने कहा था कि शिक्षा प्रत्येक व्यक्ति के लिए अनिवार्य होनी चाहिए और इससे व्यवसाय न बनाया जाये। उन्होंने कहा कि जब भारतवासियों ने संगठित होकर संघर्ष किया था तो तभी अंग्रेज देश छोडक़र भागे थे। राज्यपाल ने कार्यक्रम में प्रतिभावाहन बच्चों को भी सम्मानित किया। 

हरियाणा बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव कृष्ण ढुल ने कहा कि बाल महोत्सव मेले 2018 में विभिन्न प्रकार की राज्य स्तरीय प्रतियोगिताएं ग्रुप डांस, ऑन द स्पॉट पोस्टर मेकिंग कॉनटेक्स्ट, फैंसी ड्रेस, रंगोली, क्ले मॉडलिंग जैसी प्रतियोगिताएं करवाई गई। इसके अलावा अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएं पहले जिला स्तर पर फिर डिविजनल स्तर पर और अब 22 नवंबर से 24 नवंबर तक राज्य स्तरीय लेवल पर रोहतक में सम्पन्न करवाई गई।

उन्होंने कहा कि 14 नवंबर का दिन बाल दिवस के रूप में पूरे देश में मनाया जाता है। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू बच्चों से बेहद प्यार करते थे। बच्चे प्यार से उन्हें चाचा नेहरू के नाम से पुकारते थे। उनके जन्मदिन को पूरे भारतवर्ष में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। बच्चों के कल्याण के लिए हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद प्रदेश के राज्यपाल महामहिम सत्यदेव नारायण आर्य की अध्यक्षता व मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपाध्यक्षता में पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है।

मेलों की विलुप्त होती परंपराओं को पुनर्जीवित करने का प्रयास व बच्चों के बढ़ते तनाव को खत्म कर उन्हें सकारात्मक उर्जा व मनोरंजन की भावना से 22 नवंबर से 25 नवंबर तक इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राज्य स्तरीय बाल मेले में बच्चों के लिए सभी तरह के झूले, उपहार, खाने पीने का सामान व भोजन की व्यवस्था पूरी तरह निशुल्क की गई है। इस तरह के बाल महोत्सव व अन्य कार्यक्रम व गतिविधियां जिनसे बच्चों को प्रतिभा निखारने का एक मंच मिलता है, भविष्य में भी इस तरह के कार्यक्रम करवाए जाते रहेंगे।

ढुल ने कहा कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा कई कल्याणकारी गतिविधियों व कार्यक्रमों को चलाया जा रहा है। जिनमें 27 बाल भवन, लघु बाल भवन, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता प्रशिक्षण केंद्र, बाल गृह, आश्रय गृह, बाल कुंज, नशा मुक्ति केंद्र, प्रयास मंदबुद्धि बच्चों के लिए विशेष स्कूल, सिलाई कढ़ाई, सेंटर,सायकालीन विद्यालय, प्रारंभिक कक्षाएं,  सुपरवाइजर कक्षाएं, ओपन शेल्टर होम, डे केयर सेंटर, रेगुलर कोचिंग कक्षाएं, रविवार कोचिंग कक्षाएं प्रोग्राम, कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के बच्चों के लिए छात्रवृत्ति, राष्ट्रीय चित्रकला प्रतियोगिता एवं हरियाणा बालवीर पुरस्कार, मिल जुल कर रहना सीखें बच्चों के लिए शिविर, राज्य स्तरीय बाल दिवस प्रतियोगिताएं , मंदबुद्धि बच्चों के लिए सवेरा स्कूल, कुरुक्षेत्र व हिसार क्षेत्र में स्कूल, बस चाइल्ड हेल्पलाइन समेत अनेकों गतिविधियां परिषद द्वारा संचालित की जा रही है।

उपायुक्त डॉ. यश गर्ग ने राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह हम सबके लिए हर्ष व गौरव का विषय है कि राज्यपाल अपना किमती समय निकालकर कार्यक्रम में पहुंचे है। उन्होंने कहा कि महामहिम राज्यपाल के पहुंचने से हम सबका उत्साह वर्धन हुआ है और जीवन में आगे बढऩे की प्रेरणा मिली है। 

इस अवसर पर रोहतक मंडल के आयुक्त पंकज यादव, जिला उपायुक्त डॉ. यश गर्ग, जिला पुलिस अधीक्षक जश्नदीप ङ्क्षसह रंधावा, सोनीपत के जिला उपायुक्त विनय सिंह, दादरी के उपायुक्त अजय तोमर, एसीयूटी विश्राम मीणा, नगराधीश महेंद्रपाल, रोहतक चीनी मिल के प्रबंध निदेशक प्रदीप अहलावत, एसडीएम रोहतक राकेश कुमार, एमडीएम मसालों के मालिक महाश्य धर्मपाल, बाबा कर्णपुरी महाराज व महंत कालीदास के अलावा भाजपा के जिला अध्यक्ष अजय बंसल, जोगेंद्र सैनी, तरूण सन्नी शर्मा आदि उपस्थित थे।

 

कैप्शन 1ः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य, रोहतक में बाल महोत्सव में बच्चों को पुरस्कृत करते हुए।

कैप्शन 2ः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य, रोहतक में दीप प्रज्जवलन कर बाल महोत्सव का शुभारम्भ करते हुए।