आज समय की जरूरत है विद्यार्थियों को उनकी रूचि अनुसार व्यवसायिक शिक्षा दी जाए-राज्यपाल 05.11.2018

November 06, 2018

चण्डीगढ़ 5 नवम्बर - हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि मेक-इन-हरियाणा और मेक- इन-इंडिया को और अधिक गति देने के लिए सभी शिक्षण संस्थाआंे में व्यवसायिक शिक्षा से सम्बन्धित ढांचागत सुविधाओं की व्यवस्था की नितांत आवश्यकता है, तभी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का     मेक- इन- इंडिया का सपना साकार होगा। श्री आर्य सोमवार को हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री राम बिलास शर्मा से बात कर रहे थे। श्री शर्मा ने दीपावली की बधाई दी और शिक्षा विभाग की योजनाओं व गतिविधियों के बारे में भी विस्तार से बताया। 

श्री आर्य ने कहा कि आज समय की जरूरत है विद्यार्थियों को उनकी रूचि अनुसार व्यवसायिक शिक्षा दी जाए। विद्यार्थी भी अपनी रूचि अनुसार पारंगत होगें और शिक्षा पूरी कर ‘स्टार्ट अप इंडिया‘ जैसे अभियान से जुडकर स्वरोजगार स्थापित कर पाऐगंे। उन्होने युवाओं को अप्रेन्टिपशिप जैसे कार्यक्रमों से जोडने पर भी बल देने के लिए कहा। इसके साथ-साथ उन्होनें कहा कि तकनीकी शिक्षा विभाग युवाओं को अल्पावधि कौशल प्रशिक्षण की देने की व्यवस्था करें, जिससे वें स्वरोजगार की दिशा में और आगे बढ़ सके।

शिक्षा मंत्री श्री राम बिलास शर्मा ने बताया कि प्रदेश में शिक्षा के    प्रचार-प्रसार के लिए विभिन्न प्रभावी कदम उठाए गए है। शिक्षा के बजट में गुणात्मक बढ़ोतरी की गई है। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में दर्जनों डिग्री कालेज, बहु-तकनीकी संस्थान व व्यवसायिक कालेज तथा मेडिकल कालेजों की स्थापना की गई है। भारत सरकार द्वारा अल्पसेवित जिलों में बहु-तकनीकी संस्थान की स्वीकृति प्रदान की गई है। जिसके लिए प्रति संस्था को 12.30 करोड़ रूपए की धनराशि केन्द्रीय संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा दी जा रही है। इस स्कीम के तहत दो राजकीय बहु-तकनीकी संस्थान तो स्थापित भी किए जा चुके है और अन्य संस्थान के निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है।

उन्होने बताया कि युवाओं को विभिन्न प्रकार की प्रोद्योगिकी शिक्षा प्रदान करने के लिए कई संस्थान भी खोले गए है। कुरूक्षेत्र में राष्ट्रीय इलैक्ट्रोनिक प्रोद्योगिकी और सूचना प्रोद्योगिकी केन्द्र ;छप्म्स्प्ज्द्ध, करनाल में केन्द्रीय प्लास्टिक सैटेलाइट केन्द्र, पंचकूला में राष्ट्रीय फैशन टैक्नोलोजी संस्थान खोले जा रहें है। उन्होने बताया कि शिक्षा प्रणाली को बेहतर और पारदर्शी बनाने के उदेश्य से दाखिला प्रक्रिया एवं परिक्षाओं को कंम्युटराइज व आनलाइन किया गया है।

आज राजभवन में राज्यपाल श्री आर्य को दीपावली की बधाई देने के लिए विभिन्न शिक्षण संस्थाओं व स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि पहुचें। राज्यपाल श्री आर्य ने भी सभी को दीपावली की शुभकामनाएं दी।